Saturday, 19 March 2016

मेरा सजना मेरा सॅवरना..चेहरा सदा खिला रहना..तुझे दी जिॅदगी इस ने---ना रहना

कभी मायूस..हू गुनहगार तेरा यू जाने का--निभा पाया ना हर वादा..पर हू तेरा रूहे-जादा

--सदिया रहे..चलती रहे चलती रहे..रहो गी तुम सदा ऐसी..हो नूरे जहाॅ मेरी---मिलना

हो जब कभी मुझ से..मिलना सदियो की वो ही दुलहन बन के--

No comments:

Post a Comment

बहुत शिद्दत से बिछ रहे है आप की राहो मे..कोई कांटा कही आप को दर्द भी ना दे,यह सोच कर हम ने खुद को सिरे से सजा दिया आप की मुश्किल राहो मे....