Friday, 4 March 2016

रूक जाईए कि अब तो साथ है आप के..मुसकुरा दीजिए कि अब तो बाहो मे हैै आप के--

टुकडे कभी दिल के हम ने किए थे आप के..पर उसी दिल को जोड के हम अब हो गए है

आप के--हाथो की मेॅहदी पेे आज नाम है बस आप का..हर चलती साॅस अब शुकराना दे

रही है आप को--हर अदा.हर वफा अब कुरबान है..आप पे..बस आप पे---

 भोले भाले वो नैना..उस के दिल के आर-पार हो गए..वो भोले थे इसलिए ही तो उस की खास पसंद बन  गए..जब वो झुकते तो दिल उस का चीर जाते..जो उठते तो उ...