Wednesday, 6 June 2018

शिकस्त क्या दो गे कि खुद ही तुझ पे मर बैठे है...होश मे लाओ गे कैसे कि तुझे देख खुद ही होश उड़ा

बैठे है...माज़रा क्या है इस को समझने के लिए,क्या रातो की नींद गवाना चाहो गे...चाँद तो चाँद है

निहारो गे उसे तो यक़ीनन चांदनी को रुसवा कर बैठो गे...मेरे सवालो की उलझनों मे खुद को ही भूल

जाओ गे....जानना चाहो गे मुझे या ज़िंदगी भर बेबसी और आहों मे डूब जाओ गे....