Tuesday, 26 June 2018

लगता क्यों था कि तेरे बगैर ज़िंदगी कट जाए गी....यादो को संभाले गे और वक़्त की मार को तोड़

जाए गे...कोशिश करते रहे,करते रहे...मगर मोड़ ऐसे आते गए तेरी यादो के साथ सब झेल क्यों नहीं

पाए....अक्सर खामोश रातो मे तुझ से बाते हज़ार करते है...आंसुओ से भिगो कर दामन खुद को खुद

से प्यार कर लेते है...तू कही दूर बहुत दूर बेशक रहे,तेरी हर बात का मान रखने के लिए...कहे गे खुद

से हर बार कि तेरी यादो के सहारे यह ज़िंदगी कट ही जाए गी ....