Monday, 18 June 2018

समंदर की लहरों मे वो तेरे पांवो का भिगोना...खिलखिला कर तेरा वो हस देना,क़यामत बन कर

मेरे दिलो-दिमाग पर छा जाना...पानी की बौछारों मे मुझ को भी भिगो देना...अल्हड़पन तेरा,ऐसी

 मासूम अदा..जो भी देखे हो जाए फ़िदा...नज़ाकत से भरी,फूलो सी खिली...कौन हो तुम...ज़न्नत की

परी या खुदा की तराशी कोई संगेमरमर की कला....ख्वाईशो की जरुरत होगी कहाँ,तुझ को देखा और

दिल ने कहा सज़दा करना तेरा,है तेरी जगह....