Sunday, 1 June 2014

उस चेहऱे मे कुछ था एेसा,कि दिल ने कहा....य़ही है वो.....

उस आवाज मे ऐसी थी खनक,कि दिल ने कहा....यही है वो.....

रूह से निकली यह सदा,तू मिल गया है मुझे एक अरसे के बाद...

दुनिय़ा ना पहचाने,मगऱ मेरी रूह ने कहा....यही है वो......

No comments:

Post a Comment

                                    ''सरगोशियां,इक प्रेम ग्रन्थ'' सरगोशियां--जहां लिखे प्यार,प्रेम के शब्द,आप को अपने से ...