Monday, 2 June 2014

इस दुनिया के लोग पयार का दम भरते है....

पर उसी की पीठ पीछे,उस के मरने की दुआ करते है....

नफरत को दबाते है,अपने आदाबों से.....

पर अपनी मुसकुराहट मे जहर का फन रखते है.....

No comments:

Post a Comment

                                    ''सरगोशियां,इक प्रेम ग्रन्थ'' सरगोशियां--जहां लिखे प्यार,प्रेम के शब्द,आप को अपने से ...