Saturday, 7 June 2014

कोयल की कूक ने सुबह को रँगीन बना दिया..

रात भर की उदासी को खुशनुमा माहौल ही बना दिया..

चपपे चपपे पे छाई है,मिठास की वो बोली..

मुहबबत ही सजा गई चहकती हुई वो बोली...