Saturday, 14 June 2014

हसरत थी उन रासतों पे चलने की,जिन का सपना हम देखते ही रहे...

कभी उस की कभी इस की खवाहिशों पे,वकत बरबाद करते ही रहे..

आज सजा रहे है उन सपनो को,खुद के खयालों से..

सहारे ना माँगे थे कभी,पर साथ दुनिया के चलते ही रहे...