Sunday, 1 June 2014

वो एहसास तेरे छूने का,रूह मे अब तक कायम है....

बरसों बीत गए है साहिल,दरद आँखो मे अब भी कायम है....

कौन कहता है तू दूर है मुझ से....

एक जहान् औऱ भी,जहाँ तेरा इनतजार अाज भी कायम हैै...