Friday, 16 March 2018

बहुत ही शिद्दत से मुस्कुराते है हम,जब भी हद से जय्दा उदास होते है....रात की ख़ामोशी मे जितना

तड़प कर रोते है हम,सुबह रौशन होते ही जी भर खिलखिलाते नज़र आते है हम...दुनिया कहती है

कितने खुशनसीब है हम,बस लोगो की इसी दीवानगी के नखरे उठा उठा जाते है हम....बेबसी अपनी

को नज़रअंदाज़ कर इन्ही पन्नो पे फिर से बिखर जाते है हम....लोगो की वाही वाही से अपनी उदास

दुनिया को फिर से समेटने लगते है हम....