Tuesday, 20 March 2018

विराम नहीं....अर्ध विराम है अभी.....तुझ तक पहुंचने के लिए कुछ सोचना जरुरी है अभी....कुछ

फ़र्ज़ अदा करने बाकी है अभी ....तेरे नाम से जुड़े कुछ काम अधूरे है अभी...रूह को इन सब से अलग

करना जरुरी है अभी...इन कदमो को समझदारी से चलाना मुश्किल है अभी....तेरे बिना सब कर पाउ

यह अहम् सवाल खुद से निभाना जरुरी है अभी...लौट के आना है बस तेरे ही पास,यह सांसो का बोझ

उठाना दर्दभरा है अभी.....