Sunday, 9 April 2017

शाही लिबास मे,शाही अंदाज़ मे..तुझ से मिलने बहुत दूर से आए है--तड़प प्यार की तुझे देने के लिए

तेरी ही ज़िन्दगी मे दस्तक देने आए है आज--प्यार तुम्हे मुझ से नहीं है गर,तो पलके बिछाए यहाँ क्यों

बैठे है आज--दुनिया देती है सलामी मेरी हर अदा पे खास,तुम क्यों रख के बैठे हो दिल के ज़ज़्बात दिल

के दरवाज़े के पार--यह हसीं शाम बार बार नहीं आती,आँखों से मुहबत झलकाने बहुत दूर से आए है आज