Monday, 10 April 2017

यह भोर सुबह की कहती है..हर नियामत होगी तेरी---हर उलझन सुलझे गी..दर्द की दवा हाज़िर होगी

झुक जा खुदा के सज़दे मे..दे खुद को उस के चरणों मे--यहाँ कोई नहीं तेरा..बेगानो की दुनिया सारी है

न निभा कोई रसम-रिवाज़..ना खौफ रख दिल के खाने मे ज़रा---ना मांग खुदा से दौलत के भंडार......

बस रह हर पल उस का शुक्रगुज़ार..छोड़ के साँसों के बंधन,एक दिन उड़ जाए गा--रह जाए गी बस यादे

और तू हर शै से आज़ाद हो जाए गा---