Sunday, 30 April 2017

आवाज़ जो आई सीने से मेरे,लगा कि सब टूट ही गया---घबरा के जो खोली आंखे तो इक मासूम नज़ारा

दिल को कौंध गया---मुस्कुरा दिए उस भोली अदा पे हम,मिट गए उन नन्हे कदमो पे हम---दुआओ से

भर दिया आँचल उस का,ना लगे नज़र किसी की उसे सीने मे ही बसा लिया---खुशियों से भरा रहे दामन

तेरा,अपनी उम्र का हर लम्हा आज तेरे ही नाम कर दिया----