Wednesday, 12 April 2017

कहते है खामोशियाँ कभी बोला नहीं करती---पर हर ख़ामोशी मे तेरी आवाज़ क्यों सुनाई देती है----

बहुत देर गुफ्तगू होने  के बाद,हर चीज़ खूबसूरत क्यों नज़र आती है---जिस्म हल्का हो जाता है,और

रूह सकून से भर जाती है---तेरे बाद किसी और के लिए वक़्त कहाँ होता है--गर्म हवाओ मे क्यों सर्द

मौसम का अहसास होता है---तेरे जाने के बाद  क्यों गुफ्तगू करने का मन फिर हो आता है-----