Tuesday, 11 April 2017

तुझे ठेस न पहुंचे इस ख्याल से..हम रोए गे नहीं---दिन तो हमारा अपना होगा,तुझे ख़ुशी देने के लिए

पलकों को भिगोए गे भी नहीं---तेरे ही सीने मे,तेरी ही बाहो मे,मुस्कराए गे..यह बात और है कि तेरे

सपनो को मुकम्मल करने के लिए,ज़िन्दगी को बेखौफ अभी और जीते जाए गे--सब की राहो से दूर

बहुत ही दूर,एक दुनिया बसाई है मैंने..जहा ख्याल सिर्फ तेरा है,अपने टूटे दिल के लिए अब अपने

ज़ख्मो को किसी को कभी बताए गे भी नहीं----