Thursday, 25 January 2018

किस्मत की लकीरो मे एक लकीर ऐसी भी मिली,जो तुझ से तुझ को ही चुराने आई है --- आँखों के

शामियाने मे एक नज़र ऐसी भी है,जो तेरी नींद तुझ से ही चुराने आई है--- लब जो खुलने को हुए

तेरा नाम पुकारने के लिए,यह तुझी से इज़ाज़त लेने आई है----दुनिया ना देखे तुझे मुझे एक साथ कही

इन जुल्फों ने एक रेशमी चादर हम दोनों पे सजाई है---बरस गई गलती से घटा कोई,कुदरत की खुदाई

दुआ देने चली आई है-----