Friday, 12 January 2018

शायरी तो बस शायरी है,मेरे इन पन्नो पे भरी---मेरे लफ्ज़ो की अदायगी को ना समझे कोई ,मेरे

इकरार की लड़ी----दिलों को जो दर्द से भर दे,है इन मे कही जादू की छड़ी---कभी यु ही रुला दे,सोचिये

है कितनी ताकत इन लफ्ज़ो मे भरी----मुहब्बत के नाम से बस दिल को हौले से सहला दे,कितनी

हसीं ज़िंदगी है इस के साथ जुड़ी----कितना शुक्राना कहू,कितना आदाब करू---बस मेरे लफ्ज़ो से

सजी है मेरे इन्ही पन्नो की शायरी-----