Monday, 1 January 2018

ना करना कभी गिला साथ तेरा छोड़ जाए गे---अपनी ही शर्तो पे जीने के लिए,दुनिया से भी टक्कर

लेते जाए गे---आंसू बहाना कब से छोड़ दिया,मुस्कुराने की वजाहे ढूंढ़ना सीख लिया---दर्द के एहसास

से भी अब खुद को एहसास दिलाना छोड़ दिया---खुशियाँ होती है क्या...हर नन्हे सवालात मे,हर मोड़

पे मिले हर हालात मे....दिल का सकूँ ढूंढ लिया----तेरी सदियों की दुल्हन ने,तेरे दिए प्यार की ज़न्नत

मे अब खुद मे जीना सीख लिया---