Wednesday, 25 March 2015

खामोशियाॅ सफर करती है-बनद दरवाजो की आहट पे---गुजऱ जाते है कई लमहे इन

बेआवाज अफसानो पे--छू लेती है बहाऱे इशक का फऱऱमान बन के--कभी रो देती है

मजबूर-ए-इशक बन के---आ लौट चले कुदऱत की पनाहो मे--यहा सकून-ए-दिल कभी

हासिल ना कर पाए गे----------