Sunday, 17 December 2017

तेरी यादो ने आज क्यों फिर कहर ढाया है---तेरी ही बाहों मे सिमटने के लिए यह दिल क्यों भर आया

है---तेरे पास आने के लिए यह जिस्म क्यों रूह से अलग होने को रोने रोने को आया है----जज्बात है

कि तड़प रहे है तेरी दुनिया मे तेरे पास आने के लिए----किस से कहे कि ज़िंदगी का यह सफर अब

कटता नहीं तेरे बिना----कोई भी रिश्ता भाता नहीं अब तेरे बिना----क्यों आज फिर तेरी उन्ही यादो ने

मेरी रूह पे कहर ढाया है----

No comments:

Post a Comment

चाँद मुखातिब है मुझ से फिर इक बार..क्यों जलता है मुझ से,ऐसा भी क्या है मुझ मे जो नहीं है तेरे पास..''प्यार की इंतिहा समझने के लिए...