Tuesday, 9 September 2014

जाती हुई बहारो को कभी रोका नही हम ने..तेरे जाते हुए कदमो को भी रोका नही हम

ने...जानते है हम....हमारे पयार की ताकत तुमहे हम तक फिर ले आए गी....और तुम

जब लौट आओ गेे...तो यह बहारे भी तुमहारे साथ ही लौट आए गी.....

No comments:

Post a Comment

                                    ''सरगोशियां,इक प्रेम ग्रन्थ'' सरगोशियां--जहां लिखे प्यार,प्रेम के शब्द,आप को अपने से ...