Saturday, 6 September 2014

हर रात से पहले खवाब बस तेरा ही है..पलके जो भीगी उन मे पानी भी तेरी यादो का

है....हर करवट पे तेरी पनाहो का एहसास होता है...तू साथ है मेरे..मेरी जिनदगी को

एहसास होता है....सुबह भी आए गी...तेरी शोख नजऱो की तरह...हम फिऱ से जी उठे

गे तेरी मुहबबत मे एक खुशबू की तरह......