Friday, 1 August 2014

कही दूर से यह आवाज़ आये,की तेरे पास है हम,फिर लगा की शायद यह ख़्वाब होग…आइने मई खुद को देख कर यह अहसास हुआ,की जिस ने यह कहा हु तो खुद मेरा जमीर है……।