Friday, 1 August 2014

बनद पलको मे ना जाने कितने सपने देख लिए..

पर खुली आॅखो से भी ना भूल पाए है..

कहते है हर सपना कुछ कहता है..

पर हम अपने हर सपने को उस का मुकममल मुकाम दे जाए गेे..

No comments:

Post a Comment

                                    ''सरगोशियां,इक प्रेम ग्रन्थ'' सरगोशियां--जहां लिखे प्यार,प्रेम के शब्द,आप को अपने से ...