Thursday, 7 August 2014

जिकऱ तेरा जब भी चला..हम मुसकुरा दिए..

बाते जब तेरी चली..हम बेवजह हॅस दिए..

लोग कहते है हम तेरे पयार मे पागल हैै..

पर हम इसे अपनी मुहबबत का जनून कहते है...