Tuesday, 5 August 2014

THANKSSSS to all my friends .....for supporting me....


       pl,wait for my new stories...on my this blog..

                     again waiting for your response...


                                                     mamta wadhawan

No comments:

Post a Comment

चाँद मुखातिब है मुझ से फिर इक बार..क्यों जलता है मुझ से,ऐसा भी क्या है मुझ मे जो नहीं है तेरे पास..''प्यार की इंतिहा समझने के लिए...