Saturday, 19 December 2015

नई सुबह आप सब को मुबारक हो---दोसतो-लोग तब तक समझ नही पाते है कि आप

उन के लिए कया कया करते है--जब तक आप उन के लिए वो सब करना बॅद नही करते

-जो आप बरसो से उन के लिए कर रहे थे---शुभकामनाए सभी के लिए----