Wednesday, 3 October 2018

दुनिया की भीड़ मे रहे तो भी दूर रहे....महफ़िलो मे जो गए कभी तो अफसानों से भी दूर रहे...जवाब

तलब करता रहा यह ज़माना, मगर ख़ामोशी का लबादा ओढे  हुए हर सवाल से दूर रहे...बेकार का वोह

तमाशा और झूठी हंसी मे लिपटा हर इंसान एक अजीब सवाल लगा...घुटन के उस माहौल मे हर कोई

बेगाना ही लगा...यह दुनिया रास नहीं आई हम को,इस भीड़ से परे बहुत दूर,बहुत दूर चले गए...

No comments:

Post a Comment

चाँद मुखातिब है मुझ से फिर इक बार..क्यों जलता है मुझ से,ऐसा भी क्या है मुझ मे जो नहीं है तेरे पास..''प्यार की इंतिहा समझने के लिए...