Sunday, 20 July 2014

जीने के लिए कया दौलत काफी है ..जीने के लिए कया शोहरत काफी है..

सवााल ही सवाल उठतेे है,इस जीवन को जीने के लिए...

पर कभी कोई जाना कि जीने के लिए...ईमान भरी सचची मुहबबत ही...

   काफी है......

No comments:

Post a Comment

चाँद मुखातिब है मुझ से फिर इक बार..क्यों जलता है मुझ से,ऐसा भी क्या है मुझ मे जो नहीं है तेरे पास..''प्यार की इंतिहा समझने के लिए...